Sharabi Shayari in Hindi – Amazing Collection on Sharabi shayari firstlovers.in
Spread the love

हर रोज़ पीता हूँ तेरे छोड़ जाने के ग़म में,

वर्ना पीने का मुझे भी कोई शौंक नहीं,

बहुत याद आते है तेरे साथ बिताए हुये लम्हें,

वर्ना मर मर के जीने का मुझे भी कोई शौंक नहीं,


मे तोड़ लेता अगर तू गुलाब होती.

मे जवाब बनता अगर तू सबाल होती.

सब जानते है मैं नशा नही करता,

मगर में भी पी लेता अगर तू शराब होती!


आज परछाई से पूछ ही लिया

क्यों – चलती हो , मेरे साथ

उसने भी हँसके कहा,

*दूसरा कौन है तेरे साथ*…


पत्थर की दुनिया जज़्बात नही समझती,,

दिल में क्या है वो बात नही समझती,,

तन्हा तो चाँद भी सितारों के बीच में है,,

पर चाँद का दर्द वो रात नही समझती..


पी है शराब हर गली की दुकान से,,

दोस्ती हो गई है शराब के जाम से,,

गुजरे है कु़छ ऐसे मुकाम से,,

की आँखे भर आती है मोहब्बत के नाम से..


धोखा दिया था जब तूने मुझे

जिंदगी से मैं नाराज था

सोचा कि दिल से तुझे निकाल दूं

मगर कंबख्त दिल भी तेरे पास था।


मैकदे मे थोड़ी सी शराब बाकी दर्द दिल मे है,,

तेरी याद बाकी है,,

अब तो चली आ मैकदा होने को है,,

बंद अभी पीने वालो की तादात बाकी है..


बदनामी का डर होता तो,

हम जहा मे आते ही क्यो,

होंश मे आने का शौक होता तो,

हम पी कर डगमगाते ही क्यो.


गम इस कदर मिला की घबरा के पी गया,,

थोड़ी ख़ुशी मिली तो मिला के पी गया,,

यूं तो ना थी हमे पिने की आदत,,

के शराब को तन्हा देखा तो तरस खा के पी गया…


जिसने आँसू पिए है चुप चुप के

आज वो बेहिसाब पीता है.

क्यों शराबी शराब पीता है

पीता है तो बेहिसाब पीता है.


आप को इस दिल में उतार लेने को जी चाहता है,

खूबसूरत से फूलो में डूब जाने को जी चाहता है,

आपका साथ पाकर हम भूल गए सब मैखाने,

क्योकि उन मैखानो में भी आपका ही चेहरा नज़र आता है….


मे तोड़ लेता अगर तू गुलाब होती,,

मे जवाब बनता अगर तू सबाल होती,,

सब जानते है मैं नशा नही करता,,

मगर में भी पी लेता अगर तू शराब होती..


Leave comment

Your email address will not be published. Required fields are marked with *.