जिंदगी मिली है तो मौत भी निश्चित है यह ना पूछ कर आता है ना ही किसी को समझ आता है और जो धरती पर आया है उसे 1 दिन मरना ही है जहां दोस्त भी इसी के बीच में जो जिंदगी गुजार ले हम उसी के चंद्रमा हो का शायरी पेश कर रहे हैं अगर दोस्तों आपको अच्छा लगे तो कमेंट जरूर करेगा

ZINDAGI AUR Maut Shayari | जिंदगी और मौत शायरी | Death Shayari | Death SMS firstlovers.in

ऐ जिंदगी तेरे जज्बे को सलाम पता है कि मंजिल मौत है फिर भी दौड़ रही है तू… किसी ने क्या खूब कहा है मौत से किसकी यारी है आज मेरी बारी तो कल तेरी बारी हैं ——————————————————— अभी जो जूझती रही कभी निखरती रही टूट रही है कुछ इस तरह से जिंदगी निखरती रही ——————————————————— ऐ जिंदगी अब एक एहसान कर मौत को गले लगाना है आज नहीं तो कल सबको आना हैं अपनीजिंदगी भी सूरज की तरह हो गई है जिसमें चमक तो तो है मगर अकेली है ——————————————————— जिंदगी आजमा ले ले मुझको थोड़ा और ऐ खुदा तेरा

Read More